Quantcast

आई-मेडिटेट

 
एक विश्रामपूर्ण मुद्रा में आंख और मुंह बंद करके बैठें। अब भौंरे की तरह गुंजार की ध्वनि निकालना शुरू करें, गुंजार इतना तीव्र हो कि आपके आसपास बैठे लोगों को सुनाई पड़ सके और गुंजार की ध्वनि के कंपन आपके पूरे शरीर में फैल सकें। स्वयं को एक खाली पात्र या खोखले टयूब की तरह कल्पना करें जो गुंजार की ध्वनि से भर गई हो। एक स्थिति ऐसी आती है जब गुंजार अपने आप जारी रहता है और आप एक श्रोता मात्र हो जाते हो। इस विधि में किसी विशेष श्वसन प्रक्रिया की जरूरत नहीं है और आप गुंजार की लय को बदल सकते हैं या चाहें तो शरीर को धीरे-धीरे झूमने दे सकते हैं।

OSHO Nadabrahma Meditation

  • 0 Meditators In Past 24 Hours
  • 1 Meditators In Past 7 Days
  • 27 Meditators In Past 30 Days
नादब्रह्म गुंजार करने की ध्यान - विधि है-- गुंजार और हाथ की विशेष गति के माध्यम से आपके भीतर टकराते खंड गिरने लगते है और तुम्हारे पूरे व्यक्तित्व मे एक समरसता आ जाती है। फिर शरीर और मन पूरी तरह से एक साथ होने से आप उनकी पकड से बाहर आ जाते है और दोनों के साक्षी बन जाते है। यह बाहर से देखना ही शांति मौन और आनंद लाता है।

निर्देश

यह ध्यान एक घंटे का है और इसके तीन चरण हैं। पूरे ध्यान मे आपकी आंखें बंद रखें।