Quantcast

OSHO Times Body Dharma पूर्ण मनुष्य

एक मनुष्य को बस मनुष्य होना चाहिए, एक मनुष्य को बस मानवीय होना चाहिए, समग्र, अखंड। और उस अखंडता से एक नए किस्म के स्वास्थ्य का उदय होगा।
पूरब अंतर्मुखी है, पश्चिम बहिर्मुखी है। मनुष्य विभाजित है, मन विखंडित है। इसी कारण सारे महान गुरू पूरब से आते हैं, और सारे महान वैज्ञानिक पश्चिम से आते हैं। पश्चिम ने विज्ञान विकसित किया है और अन्दर की आत्मा को पूरी तरह से भुला दिया है; वह पदार्थ की चिन्ता लेता रहा, लेकिन अन्दर की आत्मपरकता से अनजान बना रहा। सारा ध्यान पदार्थ पर है। इसलिए सारे महान वैज्ञानिक पश्चिम में पैदा हुए हैं। पूरब अन्तरात्मा की बहुत अधिक चिन्ता लेता रहा और वस्तुनिष्ठता को, पदार्थ को, संसार को भूल गया। इससे महान धार्मिक गुरू विकसित हुए, लेकिन यह शुभ स्थिति नहीं है, ऐसा नहीं होना चाहिए।

 

 

मनुष्य को अखंड होना चाहिए।
 

अब मनुष्य को एकतरफा नहीं होने देना चाहिए। मनुष्य एक तरलता हो, न तो बहिर्मुखी और न ही अंतर्मुखी। मनुष्य में दोनों एक साथ होने की सामर्थ्य होनी चाहिए। आंतरिक और बाह्य, अगर संतुलित हैं, तो यह महानतम हर्ष का अनुभव देता है।

ऐसा व्यक्ति जो कि न तो अन्दर की ओर बहुत अधिक झुक रहा है, न ही बहुत अधिक बाहर कि ओर, एक संतुलित व्यक्ति है। वह एक साथ वैज्ञानिक और आध्यात्मिक होगा। ऐसा ही कुछ होगा, ऐसा ही कुछ होनेवाला है। हम इसके लिए जमीन तैयार कर रहे हैं। मैं एक ऐसा मनुष्य देखना पसंद करूंगा, जो न तो पूर्वीय हो और न ही पश्चिमी, क्योंकि पश्चिमी के विरोध में पूर्वीय होना कुरूप है। पूर्वीय के विरोध में पश्चिमी होना भी कुरूप है। सारी पृथ्वी हमारी है और हम सारी पृथ्वी के हैं। मनुष्य को बस मनुष्य होना चाहिए, मनुष्य को बस एक मानव होना चाहिए, समग्र, अखंड। और उस अखंडता के फलस्वरूप एक नवीन स्वास्थ्य का उदय होगा।

पूरब ने दुख उठाया, पश्चिम ने दुख उठाया। पूरब ने दुख उठाया; तुम इसे चारों ओर देख सकते हो, गरीबी, भुखमरी। पश्चिम ने दुख उठाया, तुम पश्चिमी मन के अन्दर देख सकते हो, तनाव, चिंता, पीड़ा। पश्चिम आंतरिक रूप से बहुत गरीब है, पूरब बाहरी रूप से बहुत गरीब है। गरीबी बुरी है। फिर चाहे वह बाहर की हो या भीतर की इससे कुछ फर्क नहीं पड़ता, गरीबी को नहीं आने देना है।

 

 

 

 

मनुष्य को समृद्ध होना चाहिए, आंतरिक और बाह्य दोनों रूप से।
मनुष्य को सब आयामों में समृद्ध होना चाहिए।

 

जरा उस मनुष्य की कल्पना करो जो अल्बर्ट आइंस्टीन और गौतम बुद्ध दोनों है। इस संभावना पर विचार करो, यह संभव है। वास्तव में अगर अल्बर्ट आइंस्टीन कुछ और जिया होता, तो वह एक रहस्यवादी बन गया होता। उसने अन्दर के विषय में सोचना आरंभ कर दिया था, वह अन्दर के रहस्य के बारे में रुचि ले रहा था। तुम बाहरी रहस्य में कितनी देर रुचि ले सकते हो? अगर तुम वास्तव में रहस्य में रुचि रखते हो, तो देर सबेर तुम आन्तरिकता की ओर भी आओगे।

 

 

 

 

मेरी अवधारणा एक ऐसे जगत की है जो न तो पूर्वीय है और न ही पश्चिमी, न आंतरिक और न बाह्य, न अंतर्मुखी न बहिर्मुखी, जो संतुलित है, जो अखंड है।
 

लेकिन अतीत में ऐसा नहीं था। इसलिए तुम्हारा प्रश्न प्रासंगिक है। तुम पूछते हो: “सारे महान गुरू पूर्व से क्यों आते है।?” क्योंकि पूर्व बाह्य के विरोध में आंतरिकता से ग्रसित रहा है। स्वाभाविक है, जब तुम सदियों से आंतरिकता से ग्रसित हो, तुम एक बुद्ध, एक नागार्जुन, एक शंकर, एक कबीर पैदा करोगे। यह स्वाभाविक है।

अगर तुम आंतरिकता के विरोध में बाह्य से ग्रसित हो, तुम एक अल्बर्ट आइंस्टीन, एक एडिंगटन, एक एडिसन पैदा करोगे, यह स्वाभाविक है। लेकिन यह मनुष्य की समग्रता के लिए शुभ नहीं है। कुछ कमी है। मनुष्य जिसका अन्तर विकसित है लेकिन जो बाह्य रूप से विकसित नहीं है, बाहर बचकाना रह जाता है, बाहर बेवकूफ बना रहता है। और ऐसा ही उस मनुष्य के साथ है जो बहुत विकसित है, जो परिपक्व हो गया है, बहुत परिपक्व, जहां तक गणित और फिजिक्स और कैमिस्ट्री का सवाल है, लेकिन अन्दर जो अभी पैदा भी नहीं हुआ, जो अभी गर्भ में ही है।

तुम्हें मेरा यह संदेश है: इन गोलार्धों को छोड़ो, पूरब और पश्चिम के। और इन आंतरिक और बाह्य के गोलार्धों को छोड़ो। तरल बनो। गति को, प्रवाह को ही अपना जीवन बनाओ। बाह्य और भीतर दोनों के लिए उपलब्ध रहो।

इसीलिए मैं प्रेम और ध्यान सिखाता हूं।

 

 

 

 

प्रेम बाहर जाने का मार्ग है, ध्यान अन्दर जाने का मार्ग है।
 

और एक मनुष्य जो प्रेम में है और ध्यानी है, खंडित मानसिकता के पार है, सब प्रकार के विभाजन से परे है। वह अखंड हो गया है, वह समग्र है। वास्तव में उसके पास आत्मा है।

 

 

 

ओशो, द डायमंड सूत्रा, टौक #8

 

पढ़ना जारी रखने के लिए और इस प्रवचन पर उपलब्ध सारे प्रारूप देखने के लिए: यहां क्लिक करें

 

द डायमंड सूत्रा,#8