Quantcast

Osho Osho On Topics बुद्धत्व

बुद्धत्व

बुद्धत्व और कुछ नहीं बस इतना ही है कि हर चीज वैसी ही है जैसी होनी चाहिए। यह बुद्धत्व की परिभाषा है: हर चीज वैसी ही है जैसी कि होनी चाहिए, हर चीज पूरी तरह से पूर्ण है जैसी है। यह अहसास...और अचानक तुम घर पर होते हो। कुछ भी बाकी नहीं बचता। तुम हिस्से हो, एक जैविक हिस्से हो इस महानतम, सुंदर पूर्ण के। तुम इसमें विश्रांत हो, इसमें समर्पित। तुम अलग से नहीं बचते--सभी विभाजन विदा हो जाते हैं। एक महान आनंद घटता है, क्योंकि अहंकार के विदा होते ही कोई चिंता नहीं बचती, अहंकार के विदा होने के साथ ही किसी तरह का विषाद नहीं बचता, अहंकार के विदा हो जाने के साथ ही किसी तरह की मृत्यु की संभावना नहीं बचती। यह बुद्धत्व है। यह समझ है कि सब कुछ शुभ है कि सब सुंदर है--और यह जैसा है वैसा ही सुंदर है। सब कुछ गहनतम लयबद्धता में है, संगत में है।