Quantcast

Osho Osho On Topics इच्छा मृत्यु

इच्छा मृत्यु

सभी को यह बुनियादी अधिकार दिया जाना चाहिए कि एक नियत उम्र के बाद, जब उसने पर्याप्त जीवन जी लिया और नाहक ही घसीटना नहीं चाहता...क्योंकि आने वाला कल फिर एक दोहराव ही होगा; उसने आने वाले कल के लिए सब तरह की उत्सुकता खो दी। उसे अपना शरीर छोड़ने का पूरा-पूरा अधिकार है। यह उसका मौलिक अधिकार है। यह उसका जीवन है। यदि वह इसे जारी नहीं रखना चाहता, किसी को उसे नहीं रोकना चाहिए। सच तो यह है कि हर अस्पताल में ऐसा विशेष वार्ड होना चाहिए जहां जो लोग मरना चाहते हैं वे एक महीने पहले प्रवेश कर सकते हैं, विश्रांत हो सकते हैं, हर उस चीज का आनंद लें जो जीवन भर वे करना चाहते थे लेकिन कर नहीं पाए--संगीत, साहित्य...यदि वे चित्र बनाना चाहें या मूर्ति बनाना चाहें...।

और डाक्टर उन्हें सिखाएं कि कैसे विश्रांत हुआ जाए। अब तक, मृत्यु लगभग भद्दी बात रही है। मनुष्य उसका शिकार हुआ है, लेकिन यह गलती है। मृत्यु को उत्सव बनाया जा सकता है; तुम्हें बस इतना सीखना है कि कैसे इसका स्वागत किया जाए, विश्रांत, शांतिपूर्ण। और एक महीने में, लोग, मित्र उन्हें देखने और मिलने आ सकते हैं और एक साथ रह सकते हैं। प्रत्येक अस्पताल में विशेष सुविधाएं होनी चाहिए--जो लोग जीने वाले हैं उनसे अधिक सुविधाएं उनके लिए होनी चाहिए जो मरने वाले हैं। कम से कम एक महीना उन्हें राजा की तरह जीने दो, ताकि वे जीवन को बिना किसी दुश्मनी के छोड़ सकें, बिना किसी शिकायत के बल्कि गहन कृतज्ञता के साथ, धन्यवाद के साथ।