Quantcast

Osho Osho On Topics झेन

झेन

हर चीज अनुभव पर निर्भर करतीहै। झेन अनुभवहै। यह बहुत बड़ी-बड़ी बातों के बारे में बातचीत नहींहै, यह दार्शनिकता नहींहै। यह बहुत ही सरल और साफ घटनाहै--सिर्फ भीतर देखो। इससे अधिक सरल क्या हो सकताहै? जैसे ही तुम भीतर देखते हो, एक पूरी अलग ही दुनिया के दरवाजे खुलते हैं और तुम्हारी पुरानी भाषा असंगत हो जातीहै। तुम इतना ही कह सकते हो, पुराना समाप्त हो गया।

नया पुराने का सातत्य नहीं है। न तो भाषा, न ही कोई मुद्रा, कुछ भी नए को उस भांति प्रगट नहीं कर सकता जिस तरह से पुराना करता था। ली नवीन अपनी भाषा लाताहै।ली नवीन अपना घर लाताहै।ली नवीन तुम्हारा अनंत सत्य लाताहै।