Quantcast

Osho Osho On Topics विचारों का रुकना

विचारों का रुकना

तुम्हारे विचारों की कोई जड़ें नहीं हैं, उनका कोई घर नहींहै; वे बादलों की तरह भटकते हैं। इसलिए तुम्हें उनके साथ संघर्ष नहीं करनाहै, तुम्हें उनके विपरीत नहीं होनाहै, तुम्हें उन्हें रोकने का भी प्रयास नहीं करनाहै।

यह तुम्हारे भीतर गहरी समझ बन जानी चाहिए, क्योंकि जब भी कोई व्यक्ति ध्यान में रुचि लेना प्रारंभ करताहै वह विचार को रोकने का प्रयास करने लगताहै। और यदि तुम विचारों को रोकने का प्रयास करते हो, वे कभी भी नहीं रुकेंगे, क्योंकि रोकने का प्रयास भी विचार हीहै, ध्यान करने का प्रयास भी विचारहै, बुद्धत्व को उपलब्ध हो जाने का प्रयास भी विचारहै। और तुम विचार के द्वारा विचार को कैसे रोक सकते हो? तुम मन को कैसे एक और मन को पैदा करके रोक सकते हो? तब तुम दूसरे को पकड़ लोगे। और यह होता ही चला जाएगा; तब इसका कोई अंत नहीं होगा। संघर्ष मत करो--क्योंकि कौन लड़ेगा? तुम हो कौन? विचार मात्र, इसलिए एक विचार का दूसरे विचार से संघर्ष करवा कर स्वयं को रणभूमि मत बनाओ। बजाय इसके, साक्षी बनो, तुम बस विचारों को तैरते हुए देखो। वे रुक जाते हैं, पर तुम्हारे रोकने से नहीं रुकते। तुम्हारे अधिक होशपूर्ण होने से वे रुकते हैं, उन्हें रोकने के तुम्हारे प"यास से नहीं।