Quantcast

Osho Osho On Topics लेट गो

लेट गो

लेट गो इस घटना की गहरी समझ है कि हम इस अस्तित्व के हिस्से हैं। अलग से अहंकार रखना हमारी सामर्थ्य नहीं है; हम सब के साथ एक हैं। और सब विशाल है, बहुत विशाल।

तुम्हारी समझ संपूर्ण के साथ प्रवाहित होने में मदद करेगी। पूर्ण से अलग तुम्हारा कोई लक्ष्य नहीं है, और पूर्ण का कोई लक्ष्य नहीं है। यह कहीं भी नहीं जा रहा है।

लेट गो की समझ, बिना किसी लक्ष्य के, बिना कुछ प्राप्ति के विचार के, बिना किसी द्वंद्व या संघर्ष के, यह जानते हुए कि स्वयं के साथ संघर्ष मूर्खतापूर्ण है, बस यहां होने मात्र में मदद करती है।