Ashtavakra Mahagita, Vol.4 - अष्‍टावक्र : महागीता—भाग चार (Audio(Indiv))

 

Availability: In stock

रु. 0.00
मोल  

Ashtavakra Mahagita, Vol.4 - अष्‍टावक्र : महागीता—भाग चार

Track #37 of the Series, Ashtavakra Mahagita, Vol.4 - अष्‍टावक्र : महागीता—भाग चार

अष्टावक्र और राजा जनक के बीच इस अदभुत संवाद की गरिमा को ओशो ने अपनी अमृत वाणी द्वारा उसकी पूर्णता में प्रकट किया है। अष्टावक्र-जनक संवाद एवं प्रश्नोत्तर के माध्यम से ओशो धर्म, साधना, तथा चेतना की अतल गहराई में हमें ले चलते हैं। इस अपूर्व संवाद को महागीता कहकर ओशो ने उसमें अनूठी प्राण-प्रतिष्ठा की है।
 
 
विवरणचुनना... या सभी का चयन ऑडियोपुस्तकें शीर्षक लंबाई
 
Osho International
109
 
 
मूल्य पूर्ण श्रृंखला रु. 0.00 और अब खरीदने Tracks in Total – और अधिक के लिए आगे चलें
 
उद्धरण: अष्‍टावक्र : महागीता—भाग चार, पहला प्रवचन
"मनुष्य है एक अजनबी--इस किनारे पर। यहां उसका घर नहीं। न अपने से परिचित है, न दूसरों से परिचित है। और अपने से ही परिचित नहीं तो दूसरों से परिचित होने का उपाय भी नहीं। लाख उपाय हम करते हैं कि बना लें थोड़ा परिचय, बन नहीं पाता। जैसे पानी पर कोई लकीरें खींचे, ऐसे ही हमारे परिचय बनते हैं और मिट जाते हैं; बन भी नहीं पाते और मिट जाते हैं।
जिसे कहते हम परिवार, जिसे कहते हम समाज--सब भ्रांतियां हैं; मन को भुलाने के उपाय हैं। और एक ही बात आदमी भुलाने की कोशिश करता है कि यहीं मेरा घर है, कहीं और नहीं। यही समझाने की कोशिश करता है: ‘यही मेरे प्रियजन हैं, यही मेरा सत्य है। यह देह, देह से जो दिखाई पड़ रहा है वह, यही संसार है; इसके पार और कुछ भी नहीं।’ लेकिन टूट-टूट जाती है यह बात, खेल बनता नहीं। खिलौने खिलौने ही रह जाते हैं, सत्य कभी बन नहीं पाते। धोखा हम बहुत देते हैं, लेकिन धोखा कभी सफल नहीं हो पाता। और शुभ है कि धोखा सफल नहीं होता। काश, धोखा सफल हो जाता तो हम सदा को भटक जाते! फिर तो बुद्धत्व का कोई उपाय न रह जाता। फिर तो समाधि की कोई संभावना न रह जाती।
लाख उपाय करके भी टूट जाते हैं, इसलिए बड़ी चिंता पैदा होती है, बड़ा संताप होता है। मानते हो पत्नी मेरी है--और जानते हो भीतर से कि मेरी हो कैसे सकेगी? मानते हो बेटा मेरा है--लेकिन जानते हो किसी तल पर, गहराई में कि सब मेरा-तेरा सपना है। तो झुठला लेते हो, समझा लेते हो, सांत्वना कर लेते हो, लेकिन भीतर उबलती रहती है आग। और भीतर एक बात तीर की तरह चुभी ही रहती है कि न मुझे मेरा पता है, न मुझे औरों का पता है। इस अजनबी जगह घर बनाया कैसे जा सकता है?
जिस व्यक्ति को यह बोध आने लगा कि यह जगह ही अजनबी है, यहां परिचय हो नहीं सकता, हम किसी और देश के वासी हैं; जैसे ही यह बोध जगने लगा और तुमने हिम्मत की, और तुमने यहां के भूल-भुलावे में अपने को भटकाने के उपाय छोड़ दिए, और तुम जागने लगे पार के प्रति; वह जो दूसरा किनारा है, वह जो बहुत दूर कुहासे में छिपा किनारा है, उसकी पुकार तुम्हें सुनाई पड़ने लगी--तो तुम्हारे जीवन में रूपांतरण शुरू हो जाता है। धर्म ऐसी ही क्रांति का नाम है।
"--ओशो
 

Email this page to your friend