ओशो ऑडियो पुस्तक - प्रवचन: Bin Ghan Parat Phuhar-बिन घन परत फुहार – हरि सम्हाल तब लेह  (mp3)

 

Availability: In stock

रु. 0.00
मोल  

Bin Ghan Parat Phuhar-बिन घन परत फुहार

Track #4 of the Series, Bin Ghan Parat Phuhar-बिन घन परत फुहार

सहजोबाई के ये वक्तव्य कोई बड़े काव्य नहीं हैं, इनमें कोई बड़ी कविता नहीं है। पर इसमें सीधी चोट है। इसमें कोई बड़ी लफ्फाजी नहीं है, कोई कला नहीं है। यह सीधी-सीधी बात है--एक साधारण, शुद्ध हृदय स्त्री की बात है।
 
 
विवरणचुनना... या सभी का चयन ऑडियोपुस्तकें शीर्षक लंबाई
 
Osho International
97
 
 
मूल्य पूर्ण श्रृंखला रु. 0.00 और अब खरीदने Tracks in Total – और अधिक के लिए आगे चलें
 
 

Email this page to your friend