ऑडियोपुस्तकें – चयनित प्रवचन
के रूप में भी जाना जाता है
प्रवचन ९० : एस धम्मो सनंतनो

ओशो ऑडियोबुक - चुने व्यक्तिगत टॉक: अकेला होना नियति है – Akela Hona Niyati Hai (mp3)

 

Availability: In stock

रु. 0.00
मोलरु.100  

अकेला होना नियति है – Akela Hona Niyati Hai

"कोई दूसरे को थोड़े ही प्रेम करता है, लोग अपने को ही प्रेम करते हैं। पति पत्नी को इसलिए प्रेम करता है कि पति अपने को प्रेम करता है और पत्नी सुख देती है, सुविधा देती है। पत्नी मर जाएगी तो पति दूसरी पत्नी का विचार करने लगेगा। क्यों मरेगा पत्नी के साथ! पत
 
 
ऑडियोपुस्तकें - विवरण प्रवचनमाला: एस धम्मो सनंतनो, #९०
 
Osho International
"परिवार में बैठे-बैठे कभी तुम्हें यह याद आयी या नहीं कि तुम बिलकुल अकेले हो, कौन किसका साथी है! और इसका यह मतलब नहीं है कि बुद्ध यह कह रहे हैं कि पत्नी का कोई दोष है कि तुम्हें साथ नहीं दे रही है। पत्नी भी अकेली है। बुद्ध यह भी नहीं कह रहे हैं कि इसमे
 
 
मूल्य पूर्ण श्रृंखला रु. 0.00
 
और आगे ओशो कहते हैं:
"मृत्यु सामने खड़ी हो, मृत्यु का एक दफे स्मरण भी आ जाए तो इस सारे जीवन से प्राण निकल जाते हैं, इस जीवन में कुछ अर्थ नहीं रह जाता है। इस जीवन में अर्थ तभी तक है, जब तक तुमने मृत्यु को नहीं देखा, जब तक तुमने मृत्यु का विचार नहीं किया, जब तक मृत्यु का बोध
>>

एकल प्रवचन – On शिक्षा

 
>>

प्रवचन श्रृंखला – On ज़ेन

 
 

Email this page to your friend